Home Health Holi | होली के दिन केमिकल वाले रंग प्रयोग करने से हो...

Holi | होली के दिन केमिकल वाले रंग प्रयोग करने से हो सकती है ये बीमारियां

72
0
holi, holi festival
holi

Holi के रंगो में कई तरह के केमिकल मौजूद होता है, जिस वजह से हमें कई प्रकार की बिमारी हो सकती है l चलिए जाने Holi के रंगो से होने वाले नुक्सान

हर साल आप लोग रंगों के त्यौहार होली का बेसब्री से इंतजार करते हैं। लेकिन आप आप खुद को अनजाने में बहुत तकलीफ पहुंचा सकते हैं। दिल्ली स्थित त्वचा के स्पेशलिस्ट डॉक्टर अतुल कोछड़ और इएनटी विशेषज्ञ डॉ रवि मेहर का कहना है कि, होली के त्यौहार में यदि सावधानी ना रखीं जाए तो रंगो में मौजूद केमिकल की वजह से हमें कई खतरनाक बीमारियां हो सकती है। उनका कहना है कि होली के त्यौहार पर रासायनिक वाले रंगों की बजाय हर्बल या ऑर्गेनिक रंग प्रयोग में लाने चाहिए।

holi, holi festival
holi

केमिकल वाले रंग प्रयोग करने से हो सकती है ये बीमारियां

खारिश या जलन (Holi)

डॉक्टर अतुल कोछड़ का मानना है कि जब रंग का संपर्क त्वचा से होता है तो उसके शरीर पर रहने से या रगड़ने से खारिश या जलन हो सकती है। कुछ लोग इससे बचने के लिए अपने शरीर पर तेल लगा लेते हैं। लेकिन तेल लगाने से आप को नुकसान पहुंच सकता है।

त्वचा पर पड़ सकते हैं सफेद धब्बे (Holi)

डॉक्टर अतुल कोछड़ की मानें तो होली के त्यौहार पर लोगों में ल्यूकोडर्मा की समस्या अक्सर देखने को मिलती है। यह एक ऐसी बीमारी है जिससे त्वचा पर सफेद धब्बे पड़ जाते हैं, जिनको हटा पाना बहुत ही मुश्किल होता है।

holi, holi festival
holi

कान के पर्दे फटने का रहता है डर (Holi)

जब केमिकल वाले रंग कान के अंदर घुस जाते हैं तो उसे कान में खारिश हो जाती है, जिस कारण एलर्जी हो सकती है। गुब्बारों से खेलने वाले लोगों को सावधान रहना चाहिए, क्योंकि गुब्बारे के फटने पर कान पर चोट लग सकती है और कान के पर्दे फटने का डर रहता है।

नाक और आंख में हो सकती है एलर्जी (Holi)

डॉक्टर रवि मेहर का कहना है कि जब केमिकल वाले रंग नाक और कान के अंदर चले जाते हैं तो उसे एलर्जी हो जाती है, जिससे संक्रमण हो जाता है और छींकें आने लगती है।

holi, holi festival
holi

बालों के उड़ने का भी रहता है डर

ज्यादातर लोग होली के त्यौहार पर पक्के रंग या पॉलिश वाले रंगों का इस्तेमाल करते हैं। अगर यह रंग बालों पर लग जाते हैं तो आसानी से नहीं निकलते हैं। इन रंगों को हटाते समय, जो त्वचा वालों की सुरक्षा करती है, वह भी हट जाती है। इस कारण बालों को नुकसान पहुंचता है और बाल भी उड़ जाते हैं।

यदि इस पोस्ट से सम्बंधित आपका की भी सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में अपने सवाल कर सकते है हम जल्द से जल्द आपके सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे l

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here